आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा देने के लिए तेल सार्वजनिक उपक्रमों का पोर्टल

0
355
oil exploration
427 Views

थीम: लोगों के माध्यम से उत्कृष्टता प्रदान करना

14 अक्टूबर 2020, नई दिल्ली: माननीय प्रधान मंत्री के ‘आत्मनिर्भर भारत’ के दृष्टिकोण से प्रेरित, यह विश्वसनीय और स्केलेबल पोर्टल सभी तेल कंपनियों के लिए परिकल्पित किया गया है। यह पहल “लोगों के माध्यम से उत्कृष्टता देने” विषय पर आधारित है, जिसे पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के मार्गदर्शन में लिया गया है।  इसका उद्देश्य रखरखाव , मरम्मत, और ओवरहाल (एमआरओ) से संबंधित वस्तुओं के अलावा तेल और गैस की बड़ी वस्तुओं की पूंजीगत आवश्यकता को महत्व देना है।

‘मेक इन इंडिया’ पहल के रूप में, यह वेब-आधारित पोर्टल नए उद्यमियों और मौजूदा निर्माताओं को भारत में अपने विनिर्माण आधार का निवेश और विस्तार करने के अवसर प्रदान करेगा। यह पोर्टल शीर्ष प्रबंधन और अन्य हितधारकों के लिए निर्णय लेने की सुविधा के लिए ग्राफ और चार्ट के रूप में दृश्य संकेतक के साथ वास्तविक समय डेटा भी प्रदान करेगा ।

इस उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए, एक विशेष कार्यबल, सचिव, पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस मंत्रालय के नेतृत्व में गठित किया गया है। इस कार्यबल में विभिन्न तेल और गैस सार्वजनिक उपक्रमों (जैसे इंडियन ऑयल, ई आई एल, ओ एन जी सी, गेल, बी पी सी एल, एच पी सी एल) और निजी रिफाइनर के अध्यक्ष शामिल हैं। इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड इस टास्क फोर्स के मार्गदर्शन में अवधारणा से लेकर कमीशन तक इस पोर्टल के विकास का नेतृत्व करेगा।

माननीय मंत्री पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस और इस्पात द्वारा नियमित रूप से पोर्टल के विकास की निगरानी और समीक्षा की जा रही है । इस तरह की एक समीक्षा बैठक के दौरान, आज सुबह मंत्री ने सलाह दी कि “प्रस्तावित पोर्टल को माइक्रो / स्मॉल एंटरप्राइजेज से या एस सी / एस टी / महिला उद्यमियों से की गई खरीद की जानकारी देनी चाहिए।” उन्होंने आगे “आत्मनिर्भर भारत के उद्देश्य को आगे बढ़ाने के लिए युद्धस्तर पर पोर्टल विकसित करने की आवश्यकता” पर जोर दिया।

श्री तरुण कपूर, सचिव,ने  तेल और गैस सार्वजनिक उपक्रमों के ठेकेदारों को एक अलग वेबिनार के दौरान संबोधित करते हुए  कहा कि, “हमारा मुख्य उद्देश्य हमारे ठेकेदारों के सपनों को बड़ा बनाना और एक आत्मनिर्भर भारत में योगदान करना है।” वेबिनार में  विक्रेताओं के लिए एक समर्पित वेब पोर्टल की विशेषताओं पर प्रकाश डाला ।

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के तत्वावधान में, तेल पी एस यू नियमित रूप से स्थानीयकरण के मूल विषय के साथ डिजिटल विक्रेता बैठकें आयोजित कर रहे हैं ।  इस तरह के और अधिक विक्रेता मीट  आने वाले महीनों में आयोजित किए जाएंगे । यह तेल पी एस यू-पहल जो ‘वोकल फॉर लोकल’ कही जाती है, भारतीय आपूर्तिकर्ताओं के समुदाय के लिए और अधिक अवसर  खोलेगी।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here