आयुष कर्मी लोगों को इम्युनिटी पॉवर बढ़ाने के लिये नि:शुल्क बांट रहे औषधियाँ

0
220
286 Views


कहानी सच्ची है


आयुष कर्मी लोगों को इम्युनिटी पॉवर बढ़ाने के लिये नि:शुल्क बांट रहे औषधियाँ


 


भोपाल : शनिवार, अप्रैल 18, 2020, 17:22 IST

विश्वव्यापी कोरोना वायरस की महामारी की फरवरी माह में प्राथमिक सूचना मिलते ही कटनी जिले में आयुष कर्मी शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों का इम्युनिटी पॉवर बढ़ाने के लिये उन्हें नि:शुल्क औषधियाँ बांट रहे हैं। इस काम के लिये उन्होंने सबसे पहले जिला प्रशासन के सहयोग से कार्य-योजना बनाई, स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और आँगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को साथ लेकर ग्राम पंचायतों और शहरों के वार्डों में दल गठित किये। इन दलों ने अपने-अपने क्षेत्र में घर-घर जाकर लोगों को जागरुक किया, नि:शुल्क औषधियों का वितरण किया तथा इन औषधियों के फायदे बताकर इसे उपयोग करने के तरीके भी समझाए।

कटनी जिले में सभी औषधालयों के माध्यम से अब तक 123 किलोत्रिकटु चूर्ण, 50 किलो संशमनी वटी, 9000 ड्रम आर्सेनिकम, एल्बम-30 होम्योपैथी दवा का वितरण किया जा चुका है। विगत फरवरी माह में ही औषधियों की आवश्यकता के अनुरुप मांग भेजकर पर्याप्त दवाओं का स्टॉक जिले में मंगा लिया गया था।

आयुष कर्मियों ने लोगों को बताया कि आयुर्वेद औषधियों में त्रिकटु चूर्ण की 500 एमजी मात्रा को दिन में दो बार चाय अथवा शहद के साथ 5 से 10 दिनों तक लगातार सेवन करना है। संशमनी वटी500 एमजी मात्रा को दिन में दो बार लगातार 5 से 10 दिनों तक गर्म पानी के साथ सेवन करना है अथवा होम्योपैथी दवा आर्सेनिक एल्बम 30 की 5 से 6 गोलियां खाली पेट एक माह में लगातार तीन दिन लेना है।

जिले के 33 औषधालय क्षेत्र की ग्राम पंचायतों में बाहर के जिलों से लॉकडाउन में लौटे स्थानीय मजदूरों की संख्या को देखते हुए ग्राम पंचायतों के लिये 33आयुष दल गठित किये गये।इन दलों ने मजदूरों को घर-घर जाकर आयुष औषधि खिलाने तथा उनके स्वास्थ्य की निरन्तर मॉनीटरिंग की। दल में आयुष चिकित्सक और  कार्यकर्ता के अलावा जिला तथा ब्लॉक-स्तरीय अन्य विभागों के अधिकारियों को नोडल अधिकारी बनाया बनाया गया।

आयुष चिकित्सकों ने लोगों को बताया कि संक्रमण का प्रभाव उस व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्नयुनिटी पॉवर) पर निर्भर करता है। उत्तम रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले व्यक्ति पर संक्रमण का प्रभाव अत्यन्त न्यून होता है। फरवरी माह में ही आयुष विभाग द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में लगने वाले चिकित्सा शिविरों में और आयुर्वेद औषधालयों में त्रिकटु चूर्ण, संशमनी वटी, हौम्योपैथी औषधि आर्सेनिक एल्बम 30 दवा की खुराक लोगों को दी गई।

जिले में 37 दल बनाये गये हैं। इन दलों द्वारा 407 ग्राम पंचायतों में से अब तक 148 ग्राम पंचायतों और 10 शहरी वार्डों को मिलाकर कुल 158 पॉईन्ट के सभी घरों को कव्हर किया गया। एक लाख 17 हजार 401 लोगों को रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की आयुष दवा खुराक दी गई है।


मनोज खरे



Source link

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here