एमएसएमई कर्ज गारंटी योजना: बैंकों ने एक लाख करोड़ रुपये से अधिक कर्ज बांटा

0
561
627 Views

वित्त मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि बैंकों ने कोविड-19 के कारण आर्थिक नरमी से प्रभावित सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यम (एमएसएमई) क्षेत्र के लिये 3 लाख करोड़ रुपये की आपातकालीन ऋण सुविधा गारंटी योजना (ईसीएलजीएस) के तहत एक लाख करोड़ रुपये से अधिक कर्ज का वितरित किया है.
मंत्रालय के बयान के अनुसार 100 फीसदी ईसीएलजीएस के तहत सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों के बैंकों ने 18 अगस्त, 2020 तक 1.5 लाख करोड़ रुपये से भी ज्‍यादा के ऋण स्वीकृत किए हैं. इनमें से एक लाख करोड़ रुपये से अधिक के ऋण वितरित किए जा चुके हैं.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ‘ईसीएलजीएस’ की घोषणा ‘आत्‍मनिर्भर भारत पैकेज’ के हिस्‍से के रूप में की थी. इसका उद्देश्‍य विभिन्न क्षेत्रों विशेषकर एमएसएमई को ऋण प्रदान करके ‘कोविड-19 महामारी और उसकी रोकथाम के लिये लगाये गये ‘लॉकडाउन’ से उत्‍पन्‍न संकट को कम करना है.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here