कम दाम में एडवांस फीचर्स और डिजिटल इंस्ट्रूमेंट का मजा देती हैं ये सबसे सस्ती कारें, शुरुआती कीमत महज 3.18 लाख रुपये

0
325
606 Views

देश के ऑटो सेक्टर में बीते कुछ सालों में काफी बड़े बदलाव देखने को मिले हैं। वाहनों की निर्माण प्रक्रिया अब न केवल मूलभूत जरूरतों तक सीमित हैं बल्कि आधुनिक तकनीक और फीचर्स को भी एंट्री लेवल मॉडलों में भी तरजीह दी जा रही है। ग्राहकों की रूची को देखते हुए कंपनियों ने अपने मॉडलों में कई बेहतरीन फीचर्स को शामिल किया है। 


इस समय डिजिटलीकरण का जो दौर आम जीवन में देखने को मिल रहा है ऑटो सेक्टर भी इससे अछूता नहीं है। अब बाजार में कई ऐसे मॉडल उपलब्ध हैं जिनमें कनेक्टिवटी फीचर्स और डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर दिया जा रहा है। आज हम आपको अपने इस लेख में देश की तीन उन किफायती कारों के बारे में बताएंगे जो डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर से लैस हैं। 

क्या होता है डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर: 


सबसे पहले तो ये जान लें कि आखिर ‘डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर’ होता क्या है? दरअसल, ये एक तरह का डिजिलट पैनल होता है जिसका प्रयोग कार के पारंपरिक इंस्ट्रूमेंट डैश की जगह पर किया जाता है। ये दो तरह के होते हैं, एक है सेमी-डिजिटल और दूसरा है फुली-डिजिटल। जैसा कि नाम से ही आप समझ गए होंगे कि इन दोनों में बहुत मामूली अंतर होता है, सेमी मॉडल में एनालॉग के साथ ही डिजिलट डिस्प्ले भी दिया जाता है, जबकि फुली-डिजिटल पूरी तरह से डिजिटल होता है। 

दुनिया में डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर सबसे पहली बार साल 1976 में आई एस्टन मार्टिन लैगोंडा सेडान कार में इस्तेमाल की गई थी। इसके बाद ये चलन आ गई और आज इसका प्रयोग कई कारों में किया जा रहा है। इसमें कार की स्पीड से लेकर, माइलेज, गियर शिफ्टिंग, तापमान, इंजन ऑयल गेज, माइलेज इत्यादि संबंधित जानकारियां डिजिटल तरीके से दर्शाई जाती हैं। इसके पैनल में प्रयोग की गई लाइटिंग कार के केबिन को खूबसूरत बनाती है और इसमें दी गई जानकारियों को चालक आसानी से समझ भी जाता है। तो आइये जानते हैं उन किफायती कारों के बारे में जिनमें ये फीचर दिया जा रहा है। 

1)- Tata Tiago: 


टाटा मोटर्स की सबसे सस्ती हैचबैक कार टिएगो में भी डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर को बतौर स्टैंडर्ड दिया गया है, यानी ये फीचर सभी वेरिएंट्स में मिलता है। इसके डिस्प्ले यूनिट में डिजिटल टेकोमीटर, फ्यूल लेवल, कार की स्पीड और गियर पोजिशन इत्यादि जैसी जानकारियां मिलती हैं। कंपनी ने इस कार में 1.2 लीटर की क्षमता का पेट्रोल इंजन इस्तेमाल किया है जो कि 86PS की पावर और 113Nm का टॉर्क जेनरेट करता है। ये सेग्मेंट की सबसे सुरक्षित हैचबैक कारों में से एक है, ग्लोबल NCAP क्रैश टेस्ट में इसे 4 स्टार रेटिंग मिली है। 

कीमत: 4.99 लाख से 6.95 लाख रुपये
माइलेज: 23.84 kmpl

2)- Maruti S-Presso: 


मारुति सुजुकी की मिनी एसयूवी कही जाने वाली एस-प्रेसो भी डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर से लैस है, इसे सेंटर कंसोल के बीच AC वेंट्स के पास दिया गया है। इसका डिजाइन कार के केबिन को स्पोर्टी लुक देता है। इसमें भी स्पीडोमीटर, टेकोमीटर, ड्राइविंग रेंज, ट्रिप मीटर, गियर पोजिशन और फ्यूल इंडिकेटर्स दिए गए हैं। ये फीचर इस कार के सभी वेरिएंट्स में मिलता है। कंपनी ने 1.0 लीटर की क्षमता का इंजन प्रयोग किया है। जो कि 67 bhp की पावर और 90 Nm का टॉर्क जेनरेट करता है। इसके Vxi AMT वैरिएंट में कंपनी ने 5 स्पीड AGS ट्रांसमिशन गियरबॉक्स का प्रयोग किया है। 

कीमत: 3.78 लाख से लेकर 5.26 लाख रुपये 
माइलेज: 21.7 किलोमीटर प्रतिलीटर

3)- Renault Kwid: 


फ्रांस की प्रमुख वाहन निर्माता कंपनी रेनो की सबसे सस्ती हैचबैक कार क्विड में भी LED डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर दिया गया है और ये हमारी इस सूची की सबसे सस्ती कार है। कंपनी इसके बेस स्टैंडर्ड मॉडल में भी ये फीचर देती है, और ये अपने सेग्मेंट की इकलौती कार है जिसमें ये फीचर दिया गया है। इसमें टेकोमीटर, फ़्यूल लेवल, TFT स्क्रीन डिस्प्ले, ऑडोमीटर, स्पीड और गियर पोजिशन जैसी जानकारियां मिलती हैं। यह कार दो अलग अलग पेट्रोल इंजन के साथ बाजार में उपलब्ध है। इसके एक वैरिएंट में कंपनी ने 0.8 लीटर की क्षमता का पेट्रोल इंजन और दूसरे वैरिएंट में 1.0 लीटर की क्षमता का इंजन प्रयोग किया है। 

कीमत: 3.18 लाख से 5.39 लाख रुपये
माइलेज: 25 किलोमीटर प्रतिलीटर 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here