केजरीवाल का ऐलान- दिल्ली में बच्चों को कोविड-19 की तीसरी लहर से बचाने को बनेगी स्पेशल टास्क फोर्स

0
178
274 Views

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को कहा कि दिल्ली सरकार बच्चों को कोविड-19 की तीसरी लहर से बचाने के लिए एक स्पेशल टास्क फोर्स का गठन करेगी। उन्होंने कहा कि बुधवार को अधिकारियों के साथ हुई हाई लेवल मीटिंग में यह फैसला लिया गया है।

केजरीवाल ने एक ट्वीट कर कहा, ”अगर कोरोना की तीसरी लहर आती है तो उससे लड़ने के लिए हमें पहले से तैयार रहना होगा, आज अधिकारियों के साथ बैठक में कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लिए- 1. तीसरी लहर से बच्चों को बचाने के लिए बनाएंगे विशेष टास्क फोर्स, 2. पर्याप्त बेड, ऑक्सीजन और जरूरी दवाओं का पहले से बेहतर प्रबंधन”

देश में COVID-19 की तीसरी लहर की चिंताओं के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार दोपहर 12 बजे एक हाई लेवल समीक्षा बैठक बुलाई थी। बैठक में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन और मुख्य सचिव भी बैठक में मौजूद रहे। इस महीने की शुरुआत में मुख्यमंत्री ने कहा था कि दिल्ली को कोविड-19 की तीसरी लहर के लिए तैयार रहना चाहिए।

5 अप्रैल के बाद से संक्रमण के सबसे कम मामले सामने आए

दिल्ली में मंगलवार को 5 अप्रैल के बाद पहली बार कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे कम 4,482 मामले सामने आए और 265 रोगियों की मौत हो गई, जबकि संक्रमण दर 6.89 प्रतिशत है। स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार, दिल्ली में सोमवार को संक्रमण के 4,524 मामले सामने आए थे और 340 रोगियों की मौत हुई थी। संक्रमण की दर 8.42 प्रतिशत थी। दिल्ली में लगातार दूसरे दिन संक्रमण के 5 हजार से कम मामले सामने आए। राजधानी में कुछ दिन से कोविड-19 हालात में सुधार हो रहा है और संक्रमण के मामलों तथा इसकी दर में तेजी से गिरावट देखी जा रही है।

चिकित्सा विशेषज्ञों ने महामारी की दूसरी लहर के बीच इस गिरावट के लिए लॉकडाउन को मुख्य कारक बताया है। हालांकि, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को 24 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा करते हुए कहा था कि कोरोना वायरस खिलाफ जंग में मिली बढ़त को अभी छूट देकर खोया नहीं जा सकता।

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली में मंगलवार को पांच अप्रैल के बाद से संक्रमण के सबसे कम मामले सामने आए हैं। उस दिन 3,548 लोग वायरस से संक्रमित पाए गए थे। संक्रमण की दर सात अप्रैल के बाद से सबसे कम है। उस दिन यह 6.1 प्रतिशत थी।  वहीं, 22 अप्रैल को संक्रमण की दर अब तक सबसे अधिक 36.2 प्रतिशत थी। मौत के सबसे अधिक 448 मामले तीन मई को सामने आए थे। आंकड़ों के अनुसार, राजधानी में एक्टिव मामलों की संख्या 50,863 है। इनमें से 31,197 होम आइसोलेशन में हैं।

दिल्ली में संक्रमित पाए गए लोगों की कुल संख्या 14,02,873 हो गई है, जबकि 22,111 रोगियों की मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार, अब तक 13.29 लाख लोग संक्रमण से उबर चुके हैं या दिल्ली से बाहर चले गए हैं। 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here