कोविड-19 के विरुद्ध युद्ध में रबी उपार्जन व्यवस्था से खुश हैं किसान

0
195
260 Views


कहानी सच्ची है


कोविड-19 के विरुद्ध युद्ध में रबी उपार्जन व्यवस्था से खुश हैं किसान


 


भोपाल : शनिवार, अप्रैल 25, 2020, 13:15 IST

प्रदेश में कोविड-19 के विरुद्ध जारी युद्ध के दौरान किसानों की रबी फसलों को समर्थन मूल्य पर खरीदी की कार्यवाही भी पूरी तेजी से जारी है। खरीदी केन्द्रों पर मास्क, सेनेटाइजर और सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल रखा जा रहा है। हरदा जिले में केन्द्रों में साबुन, सेनेटाइजर, पेयजल और छांव के आवश्यक इंतजाम किये गये हैं। जिले के ग्राम कुहीम्वाड़ी केन्द्र में गेहूँ बेचने पहुँचे किसान आनंद सिंह ने बताया कि खरीदी केन्द्रों पर की गई व्यवस्थाएँ सराहनीय हैं। उन्होंने किसानों को एसएमएस भेजने की व्यवस्था को फायदेमंद बताया।

होशंगाबाद जिले के ग्राम फेफरताल के किसान कमलेश मीणा ने अपना 50 क्विंटल गेहूँ कृषि उपज मंडी जासलपुर में विक्रय किया। कमलेश बताते हैं कि खरीदी केन्द्र पर सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह से पालन किया जा रहा है। केन्द्रों पर किसानों को संक्रमण से बचाने के लिये हाथ धोने के साबुन की व्यवस्था भी की गई है। छतरपुर जिले केबिजावर विकासखण्ड के उपार्जन केन्द्र अनगौर में गेहूँ बेचने आये किसान राजेश यादव ने बताया कि संक्रमण से बचाव के लिये खरीदी केन्द्र पर किसानों से हाथ धुलवाए जा रहे हैं और मास्क, साबुन तथा सेनिटाइजर की उचित व्यवस्था की गई है। ग्राम पंचायत बगौता के किसान देवीलाल अहिरवार ने बताया कि उन्हें गेहूँ खरीदी के लिये एसएमएस दो दिन पहले ही मिल गया था। इसके साथ ही, संस्था द्वारा भी उन्हें फोन के माध्यम से इसकी जानकारी उपलब्ध कराई गई थी।

खरीदी केन्द्र पर व्यवस्था में लगे कर्मचारियों द्वारा यह प्रयास किये जा रहे हैं कि गेहूँ तुलाई के दौरान अनावश्यक भीड़ न हो। किसान देवीलाल ने अपना 17 क्विंटल गेहूँ विक्रय किया है। जिले में अब तक 145 उपार्जन केन्द्रों पर 8 हजार 144 किसानों ने 26 हजार 211 मीट्रिक टन गेहूँ की बिक्री की है। इसमें से 15 हजार 772 मीट्रिक टन गेहूँ का सुरक्षित ढंग से परिवहन भी किया जा चुका है। खरीदी केन्द्रों पर हम्मालों और कर्मचारियों का भी स्वास्थ्य परीक्षण किया जा रहा है।

नीमच जिले में लॉकडाउन के दौरान ग्राम पालसोड़ा के किसान शिवनारायण पाटीदार समर्थन मूल्य पर 21 क्विंटल गेहूँ बेचकर खुश नजर आये। उन्होंने प्राथमिक कृषि सहकारी समिति नीमच सिटी में 21 क्विंटल गेहूँ 1925 रुपये प्रति क्विंटल के भाव पर बेचा है। इसी केन्द्र में बरखेड़ा सोंधिया के किसान दिलीप सिंह सिसोदिया ने 18 क्विंटल गेहूँ समर्थन मूल्य पर बेचा। इस केन्द्र में संक्रमण से बचाव के लिये व्यापक इंतजाम किये गये हैं।

शाजापुर जिले में किसान अपनी उपज का नमूना कृषि उपज मण्डी में व्यापारियों को दिखाकर सौदा-पत्रक के माध्यम से उपज बेच रहे हैं। ग्राम सुनेरा के किसान कमरुद्दीन ने सौदा-पत्रक के माध्यम से 95 क्विंटल गेहूँ की बिक्री की। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के कारण यदि किसान को अपनी फसल बेचने में और देरी होती, तो इससे किसानों को बड़ा भारी नुकसान उठाना पड़ता। जिले में शाजापुर, बैरछा और मक्सी कृषि उपज मण्डी में अब तक किसानों ने गेहूँ, सोयाबीन, रायड़ा, चना, मसूर, प्याज, लहसुन और आलू के 194 सौदा-पत्रकों के माध्यम से करीब 8 हजार 30 क्विंटल फसल बेची है। अशोकनगर जिले की कृषि उपज मण्डी अशोकनगर में मण्डी सचिव द्वारा हम्मालों और किसानों को मास्क का वितरण किया गया और उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग के मामले में जागरुक किया। जिले के सभी खरीदी केन्द्रों पर समर्थन मूल्य पर गेहूँ की खरीदी निरंतर जारी है।


मुकेश मोदी



Source link

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here