ग्लोबल ट्रेवल इंडस्ट्री पर कोरोना वायरस की वजह से 560 बिलियन डॉलर की मार

0
218
323 Views

जब से चीन में कोरोना वायरस की शुरुआत हुई है, तब से कई सेक्टर्स में असर देखने को मिला है। कई कंपनियों ने चीन में अपने प्लांट बंद कर दिए हैं। वायरस के करीब 50 देशों में फैलने की वजह से कई कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को ट्रैवल करने तक से मना कर दिया है। जिसका असर ग्लोबल ट्रैवल इंडस्ट्री पर दिखाई दे रहा है। आंकड़ों की मानें तो कोरोना वायरस के शुरू होने से लेकर अब तक ग्लोबल ट्रैवल इंडस्ट्री को 560 बिलियन डॉलर का नुकसान हो सकता हैै। खास बात तो ये है कि चीन की यात्रा से संबंधित यह आंकड़ा 400 बिलियन डॉलर पर है।
अगर बात ग्लोबल ट्रैवल इंडस्ट्री के नुकसान की करें तो चीन और युरोप के देशों को मिलाकर 509 बिलियन डॉलर तक पहुंचने की संभावना है। जिसमें से चीन से संबंधित 400 बिलियन डॉलर और युरोप से संबंधित 109 बिलियन डॉलर है। अमरीका स्थित ग्लोबल बिजनेस ट्रैवल एसोसिएशन के अनुसार दो-तिहाई लोगों ने कई यात्राओं को स्थगित कर दिया था, जबकि 95 फीसदी ने चीन की यात्राओं को निलंबित कर दिया है। 23 फीसदी यूरोपीय देशों जैसे फ्रांस, जर्मनी और इटली की यात्राओं को रद कर दिया है। बाकी नुकसान दूसरे देशों में जाने से रोक पर भी हुआ है।
वास्तव में ग्लोबल बिजनेस ट्रैवल एसोसिएशन ने वर्ष 2020 में ग्लोबल कॉरपोरेट ट्रैवल एक्सपेंडिचर का जो अनुमान लगाया था उसमें 37 फीसदी की कटौती कर दी है। जीबीटीए की ओर से इसका कारण कोरोना वायरस को बताया है। संगठन ने यह भी कहा है कि अगर यह वायरस वैश्विक महामारी में बदलता है तो यह आंकड़ा और भी अधिक हो सकता है। संगठन के अनुसार दुनिया की सभी मल्टी नेशनल कंपनियों की ओर से दूसरे देशों में होने वाली बैठकें और कार्यक्रम रद्द कर दिए हैं और कंपनियों ने कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए यात्रा को सीमित या यूं कहें कि खत्म ही कर दिया है। जिसका असर ग्लोबल ट्रैवल इंडस्ट्री पर दिखाई देना शुरू हो गया है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here