Home इंश्योरेंस डेंगू, चिकनगुनिया, मलेरिया जैसे मच्छर जनित रोगों से सुरक्षा देगा खास बीमा

डेंगू, चिकनगुनिया, मलेरिया जैसे मच्छर जनित रोगों से सुरक्षा देगा खास बीमा

0
364
505 Views

बीमा नियामक इरडा ने स्वास्थ्य और जनरल इंश्योरेंस बीमा कंपनियों को मच्छर और कीटाणुओं से होने वाली डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया जैसी बीमारियों (वेक्टर बोर्न) के इलाज के लिए स्टैंडर्ड बीमा (मानक) पॉलिसी लाने का निर्देश दिया है। बीमा कंपनियों को नई पॉलिसी 1 अप्रैल, 2021 तक बाजार में पेश करनी होंगी।

मच्छर जनित बीमारियां मच्छर और कीटाणुओं के काटने से होती है। इसमें एक व्यक्ति का संक्रमित रक्त से दूसरे व्यक्ति में बीमारी का प्रसार हो जाता है। वेक्टर बोर्न रोग में डेंगू बुखार, मलेरिया आदि शामिल है। बजाज आलियांज जनरल इंश्योरेंस के हेड (रिटेल अंडरराइटिंग), गुरदीप सिंह बत्रा ने कहा कि इरडा द्वारा उठाया गया यह एक बेहतर कदम है।

मानूसन से पहले इस पॉलिसी के आने से लाखों लोगों को फायदा मिलेगा क्योंकि सबसे अधिक संक्रमण उसी मौसम में फैलता है। इरडा द्वारा जारी 3 फरवरी, 2021 के दिशानिर्देशों के अनुसार, मानक स्वास्थ्य पॉलिसी सभी बीमाकर्ताओं को एक सामान कवरेज प्रदान करेगा। यह पॉलिसी व्यक्तिगत और पूरे परिवार को कवर प्रदान के विकल्प के साथ आएगा।

पॉलिसी की नियम और शर्तें

मानक पॉलिसी में 10 हजार रुपये के शुरुआती कवर मिलेगा। बीमा धारकों को अपनी जरूरत के अनुसारी 10 हजार के गुणज में पॉलिसी की राशि को बढ़ा सकेंगे। इस पॉलिसी के तहत अधिकतम 2 लाख रुपये तक का कवर मिलेगा। पॉलिसी को 18 से 65 साल के व्यक्ति खरीद सकेंगे। नई पॉलिसी का नाम बीमा कंपिनयों को मशक रक्षक के बाद अपने मर्जी के तय करने की आजादी होगी।

मिलने वाली कवर की राशि और सुविधाएं

1. अस्पताल में भर्ती का लाभ: अगर बीमाधारक को डेंगू बुखार, मलेरिया, फाइलेरिया (लिम्फेटिक फाइलेरिया), चिकनगुनिया, जापानी इंसेफेलाइटिस और जीका वायरस के कारण अस्पताल में न्यूनतम 72 घंटे तक भर्ती रहना पड़ा तो इस पॉलिसी के तहत बीमित राशि का 100% के बराबर लाभ दिया जाएगा।

2. डाइगनोसिस कवर : बीमित राशि का 2 फीसदी वेक्टर जनित रोग की पुष्टि डॉक्टर द्वारा पहली बार होने पर बीमाधारक को जांच के लिए दिया जाएगा। इरडा के दिशानिर्देश के अनुसार, केबल एक बार प्रत्येक बीमारी के लिए बीमाधारक को कवर प्रदान किया जाएगा। बीमित राशि के 100% के भुगतान पर पॉलिसी खुद व खुद रद्द हो जाएगी। वहीं, फेमिली फ्लोटर पॉलिसी में एक व्यक्ति द्वारा कवर की राशि का इस्तेमाल कर लेने के बाद अन्य व्यक्ति के लिए पॉलिसी के तहत कवर की राशि जारी रहेगी।

कौन-कौन सी बीमारियां होंगी कवर?

इस इंश्योरेंस पॉलिसी में डेंगू बुखार, मलेरिया, फाइलेरिया, काला अजार, चिकनगुनिया, जापानी बुखार और जीका वायरस जैसे वेक्टर जनित बीमारियों के इलाज को शामिल किया जाएगा। प्रस्ताव के तहत इंश्योरेंस पॉलिसी की अवधि एक साल होगी और इसमें प्रतीक्षा अवधि 15 दिन की होगी।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

%d bloggers like this: