दक्षिण अफ्रीका मंदी की चपेट में ,लगातार गिर रही है जीडीपी

0
237
365 Views

दक्षिण अफ्रीका मंदी की चपेट में आ गया है। सांख्यिकी ब्यूरो ने मंगलवार को कहा कि 1994 में रंगभेद की नीति समाप्त होने के बाद से यह तीसरी बार है जब मंदी आयी है।

वर्ष 2019 के अंतिम तीन महीनों में देश मंदी में आया है। स्टैटिक्स साऊथ अफ्रीका ने कहा कि 2019 की अंतिम तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 1.4 प्रतिशत की गिरावट आयी। इससे पिछले तीन महीनों में इसमें 0.8 प्रतिशत की गिरावट आयी थी। इससे दक्षिण अफ्रीका का 2019 में आर्थिक वृद्धि दर महज 0.2 प्रतिशत रही। वर्ष 2009 में वैश्विक वित्तीय संकट के बाद यह वृद्धि दर का न्यूनतम स्तर है।
ब्यूरो के अनुसार कृषि और परिवहन क्षेत्र के कमजोर प्रदर्शन से आर्थिक वृद्धि नीचे आयी है। इसके अलावा निर्माण, खनन और विनिर्माण क्षेत्र का भी प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा। इसके कारण वित्त विभाग के अच्छे योगदान और सरकार के खर्च के बावजूद अच्छा प्रभाव नहीं पड़ा। जब दो तिमाही में लगातार आर्थिक वृद्धि दर में गिरावट आती है तब मंदी की स्थति कही जाती है। इससे पहले दक्षिण अफ्रीका 2008/09 तथा उसके बाद 2018 में मंदी की चपेट में गया था।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here