नवरात्रि के चौथे करें मां कुष्ठमांडा की आराधना, प्रसाद में लगाएं ये विशेष भोग

0
302
389 Views

नवरात्रि के चौथे दिन मां कुष्मांडा की पूजा की जाती है. अपनी मंद, हल्की हंसी के द्वारा मां कुष्ठमांडा ने अपने उदर से ब्रह्मांड को उत्पन्न किया था. माना जाता है जो भक्त मां के इस रूप की आराधना करते हैं, उनपर कभी किसी प्रकार का कष्ट नहीं आता. कुष्मांडा देवी को अष्टभुजा भी कहा जाता है. इनकी आठ भुजाएं हैं. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार मां कुष्मांडा की पूजा करने से आयु, यश, बल और स्वास्थ्य में वृद्धि होती है. मां कुष्मांडा की विधि विधान से पूजा करने से मनोवांछित फल प्राप्त होते हैं. मान्यता है कि मां कुष्मांडा संसार को अनेक कष्टों और संकटों से मुक्ति दिलाती हैं.

माना जाता है कि मां कूष्‍मांडा को दही और हलवा अति प्रिय है जो भक्त मां की इन चीजों के साथ आराधना करते हैं इनपर मां सदा अपनी कृपा बनाए रखती है. मां कूष्‍मांडा का आशीर्वाद पाने के लिए आप इन खास रेसिपी का लगाएं भोग.

मां कूष्‍मांडा पूजा विधिः

नवरात्रि के चौथे दिन सुबह स्नान आदि से निवृत्त हो जाएं. इसके बाद मां कूष्मांडा का स्मरण करके उनको धूप, गंध, अक्षत्, लाल पुष्प, सफेद कुम्हड़ा, फल, सूखे मेवे और सौभाग्य का सामान अर्पित करें. अब मां कूष्मांडा को हलवा और दही का भोग लगाएं. फिर उसे प्रसाद स्वरूप ग्रहण कर सकते हैं. पूजा के अंत में मां कूष्मांडा की आरती करें.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here