भारत इस साल दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था के रूप में आ सकता है वापस

0
239
374 Views

भारतीय अर्थव्यवस्था साल 2021 में पटरी पर तेजी से आने लगेगी। भारत की जीडीपी नए वित्त वर्ष में 12.6 फीसदी की दर वृद्धि करेगी। आर्थिक सहयोग एवं विकास संगठन (OECD) ने भारतीय अर्थव्यवस्था की संभावनाओं में 2021 में इजाफे की बात कही है। इससे भारत विश्व में सबसे तेजी से विकसित होने वाली बड़ी अर्थव्यवस्था का स्थान फिर हासिल कर लेगा।

ओईसीडी के मुताबिक अगर यह ग्रोथ का स्तर भारत पा लेता है, तो चीन को पीछे छोड़ सकता है। ओईसीडी को उम्मीद है कि साल 2020 के स्लोडाउन के बाद चीन की ग्रोथ रेट कैलेंडर ईयर में 7.8 फीसदी रह सकती है।

ओईसीडी ने वर्ष 2021-22 के लिए भारत की आर्थिक वृद्धि दर में 4.7 फीसदी की वृद्धि के साथ 12.6 फीसदी का अनुमान लगाया है। आर्थिक पू्र्वानुमान के बारे में जारी अंतरिम रिपोर्ट में ओईसीडी ने कहा है कि भारत में महामारी के बाद की स्थिति में सुधार होने से वित्तीय और अर्धवित्तीय उपायों तथा विनिर्माण और निर्माण कार्यों की बहाली से अर्थव्यवस्था में सुधार होने में मदद मिली है।

हालांकि ओईसीडी ने वर्ष 2022-23 में आर्थिक वृद्धि दर में पांच दशमलव चार प्रतिशत कम होने का अनुमान लगाया है जोकि पहले के अनुमानों से शून्य दशमलव छह प्रतिशत अंक से अधिक होगा। ओईसीडी के अनुसार भारत उस वर्ष इंडोनेशिया के साथ सबसे तेजी से विकसित होने वाली अर्थव्यवस्था का स्थान साझा करेगा।
भारतीय अर्थव्यवस्था की जीडीपी में साल 2020 के आखिरी तीन महीनों में 0.4 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। साल 2020 में भारतीय अर्थव्यवस्था 7 फीसदी तक सिकुड़ी है। ओईसीडी ने इससे पहले अनुमान जताया था कि भारतीय अर्थव्यवस्था में संकुचन वित्त वर्ष 2021 में 9.9 फीसदी रहेगा, जबकि इसका सितंबर का अनुमान 10.2 फीसदी था। 

ऐसा पूर्वानुमान पहले लगाया था कि अगले वित्त वर्ष में अर्थव्यवस्था 8 फीसदी और उसके बाद सालाना पांच फीसद की वृद्धि दर हासिल कर लेगी, लेकिन जीडीपी का नुकसान बड़ा होगा। ओईसीडी ने कहा है कि भारत और कुछ अन्य देशों में घोषित वित्तीय उपायों से 2021-22 में अर्थव्यवस्था में वृद्धि में मदद मिलेगी।
पिछले तीन महीने के दौरान कई देशों में घोषित अतिरिक्त वित्तीय उपायों से अमरीका, जापान, जर्मनी, कनाडा और भारत सहित कई देशों की अर्थव्यवस्था को मजबूती मिलेगी।

ओईसीडी ने कहा है कि विश्व में हाल के महीनों में कोरोना वायरस वैक्सीन तैयार होने और कई आर्थिक प्रोत्साहन पैकेजों की घोषणा के बाद आर्थिक स्थिति में सुधार हुआ है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here