लद्दाख में तनाव के बीच दक्षिणी पैंगॉन्ग में बढ़ी चीनी टैंकों और सैनिकों की मौजूदगी

0
219
277 Views

पूर्वी लद्दाख में 30 अगस्त को चीनी जवानों को पीछे खदेड़ते हुए भारत ने कई ऊंचाई के इलाकों पर कब्जा जमा लिया था, उसके बाद से इलाके में चीनी सेना के अस्त्र-शस्त्र की मौजूदगी काफी बढ़ी हुई दिख रही है. पैंगॉन्ग झील के दक्षिणी किनारे पर चीनी टैंकों और पैदल सैनिकों की बढ़ी हुई मौजूदगी देखी गई है. अगर चीनी तोपों की रेंज देखें तो अनुमान है कि चीनी तोपखाने वास्तविक नियंत्रण रेखा से 20 किलोमीटर से ज्यादा की दूरी पर अंदरूनी हिस्सों में पोजीशन लिए हुए हो सकते हैं.

सूत्रों ने बताया है कि दक्षिणी पैंगॉन्ग में चीन के सीमा के अंदर आने वाले मोल्डो से कुछ ही दूरी पर अतिरिक्त टैंक बलों की मौजूदगी देखी गई है. हालांकि, चीनी सेना की गतिविधियों पर भारतीय सेना की नजर हैं, क्योंकि उसका थाकुंग से लेकर मुकपुरी के पार तक की चोटियों पर मौजूदगी है. इसमें Spanggur दर्रे की दो चोटियां भी शामिल हैं. बहुत ऊंचाई पर स्थित यह दर्रा दो किलोमीटर चौड़ा है, जिसपर आसाानी से टैंकों की गतिविधियां की जा सकती हैं.

भारतीय सेना ने इलाके में अपनी टैंकों की पोजिशनिंग भी बढ़ाई है और अतिरिक्त बलों को तैनात किया है, ताकि LAC के ऊंचाइयों वाले इलाके में उसकी मौजूदी और मजबूत हो सके. चोटियों पर अपनी स्थिति मजबूत करके भारतीय सेना चीनी सेना की कवच और उसके जवानों की टुकड़ियों को एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल, रॉकेट और दूसरे हथियारों से जवाब देने में सक्षम है.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here