स्वास्थ्य बीमा का दावा नहीं करने पर मिलते हैं कई फायदे, मिलती है इतनी छूट

0
203
279 Views

क्या आपको पता है कि अगर आप स्वास्थ्य बीमाधारक हैं और एक पॉलिसी टर्म (एक साल) में कोई दावा नहीं करते हैं तो आपको कई तरह के लाभ मिलेंगे। इसमें प्रीमियम में छूट सहित कवर की राशि में बढ़ोतरी शामिल हैं। हाल ही में फ्यूचर जनराली इंडिया इंश्योरेंस कंपनी ने एक नया इंश्योरेंस प्लान को लॉन्च किया है। इसमें पॉलिसी की शुरुआती अवधि में दावा नहीं करने वाले बीमाधारकों को 80 फीसदी पॉलिसी प्रीमयिम में छूट के साथ कवर रशि में वृद्धि का लाभ दिया जा रहा है।

प्रीमियम में 80 फीसदी तक मिलेगी छूट

फ्यूचर जनराली की ओर शुरू की गई नई पॉलिसी ‘हेल्थ सुपर सेवर पॉलिसी’ पहले साल में नो क्लेम के लिए दूसरे और तीसरे वर्ष के रिन्यूवल प्रीमियम में 80 फीसदी की छूट बीमाधारकों को दिया जाएगा। यह छूट पहले दो साल के लिए दिया जाएगा। कंपनी अपने नए उत्पाद को दो वेरिएंट्स 1एक्स और 2एक्स में पेश कर रही है, जिसके तहत पहले वेरिएंट में उपभोक्ताओं को पहले साल में नो-क्लेम बोनस के रूप में उसके बाद के वर्षों के प्रीमियम में फ्लैट 80 फीसदी छूट दी जाएगी। वहीं दूसरे वरिएंट में व्यक्ति सम इंश्योर्ड के आधार पर परिवार के सदस्यों को 80 प्रतिशत अधिक कवरेज उपलब्ध कराया जाएगा। यह नया उत्पाद एक दिन के नवजात से लेकर 70 वर्ष के वरिष्ठ नागरिक को कवर करता है।

आमतौर पर 5 से 20 फीसदी की छूट देती हैं कंपिनयां

स्वास्थ्य बीमा में एक पॉलिसी टर्म के दौरान दावा नहीं करने पर बीमा कंपनियां 5 फीसदी से लेकर 20 फीसदी की छूट प्रीमियम में देती है। इसके साथ ही कवर की राशि में बढ़ोतरी भी करते हैं। बीमा विशेषज्ञों का कहना है कि जिस तेजी से इलाज का खर्च बढ़ रहा है, उसको देखते हुए स्वास्थ्य बीमा में प्रार्यप्त कवर राशि होना बहुत ही जरूरी हो गया है। कोरोना संकट के दौरान कई बीमाधारकों को कम कवर राशि को लेकर परेशानी का सामाना करना पड़ा है।

क्लेम बढ़ने से बढ़ जाता है प्रीमियम

बीमा विशेषज्ञों के अनुसार, अगर बीमाधारक द्वारा ज्यादा क्लेम किया जाता है तो बीमा कंपनियां प्रीमियम में बढ़ोतरी कर देती है। इससे बचने के लिए छोटी से छोटी बीमारी के लिए क्लेम करने से बचना चाहिए। इसके साथ ही बीमा पॉलिसी में गंभीर बीमारी के लिए क्लेम की राशि अधिक होनी चाहिए। बाजार में उपलब्ध कई बीमा कंपनियों की पॉलिसीज में कुछ गंभीर बीमारियों पर क्लेम की राशि अपेक्षाकृत कम होती है। ग्राहक को बीमा पॉलिसी लेने से पहले इस बारे में पता कर लेना चाहिए। इसके लिए ग्राहक को गंभीर बीमारी की कवर लिस्ट सहित सभी दस्तावेजों को ध्यानपूर्वक पढ़ना चाहिए।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here